थायराइड क्या है और थायराइड के मरीज को कभी नहीं करनी चाहिए ये 7 चीजें

आज की पोस्ट में आपको बताएंगे कि थायराइड के मरीज को कभी नहीं करनी चाहिए ये 7 चीजें, यदि आप गलती से इन चीजों का इस्तेमाल करते हो तो आपकी यह समस्या ज्यादा बढ़ सकती है। थायराइड होने का सबसे मुख्य कारण हमारी जिंदगी का लाइफस्टाइल है।

हमारे गलत खान-पीन और गलर लाइफस्टाइल की वजह से हमें कई बीमारियों का सामना करना पड़ता है और थायराइड भी इसी बीमारी में से एक है। आप लोगों को बता दें कि पुरुषों से ज्यादा महिलाओं में थायराइड बीमारी होने के चांसेज ज्यादा होते है और यह बीमारी किसी भी उम्र में हो सकती है।

आज की पोस्ट में हम आपको थायराइड से जुड़ी सभी प्रकार की जानकारी देंगे। जैसे कि – थायराइड क्या है, थायराइड होने के कारण और थायराइड का घरेलू उपचार आदि।

थायराइड क्या होता है – What Is Thyroid In Hindi

यह एक प्रकार की एंडोक्राइन ग्रंथि होती है जो कि तितली के आकार की होती है और गले में मौजूद होती है। थायराइड की समस्या महिलाओं में ज्यादा होती है। यह दो प्रकार के होते है –  हाइपोथायराइड और हाइपरथायरॉइडिज्म

हाइपोथायराइड क्या है – What Is Hypothyroid

हाइपोथायराइड होने पर थायराइड ग्रंथि एक्टिव नहीं रहती है और शरीर की आवश्यकता के अनुसार T3 और T4 हार्मोन शरीर तक नहीं पहुँच पाते है और फिर शरीर का वजन धीरे-धीरे बढ़ने लगता है। आलसपन आने लगता है और बीमारियों से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है।

नीचे दिए निम्न हाइपोथायराइड के लक्षण है – Hypothyroid Symptoms In Hindi

  • वजन बढ़ना
  • पेट की समस्या होना
  • थकान होना और चिड़चिड़ापन होना
  • चेहरे पर सूजन आना
  • ठंड लगना आदि

हाइपरथायरॉइडिज्म क्या है – What Is Hyperthyroidism

यह रोग हाइपोथायराइड के विपरीत होता है। हाइपरथायरॉइडिज्म होने पर थाइरॉइड ग्रंथि अधिक एक्टिव रहती है। अधिक एक्टिव होने के कारण T4 और T3 हार्मोन का भी अधिक उत्पादन होता है और फिर शरीर का वजन कम होने लगता है। भूख ज्यादा लगने लगती है और रोगी को गर्मी भी अधिक लगने लगती है

नीचे दिए निम्न हाइपरथायरॉइडिज्म के लक्षण है – Hyperthyroidism Symptoms In Hindi

  • वजन कम होना
  • अधिक गर्मी लगना
  • अधिक भूख लगना
  • मांसपेशियों का कमजोर होना
  • नींद न आना आदि

थायराइड होने के कारण – Thyroid Causes in Hindi

नीचे दिए निम्न थायराइड के कारण है। नीचे दिए निम्न कारणों की वजह से थायराइड होता है –

  • आहार में आयोडीन की मात्रा कम व ज्यादा होने से थायराइड की समस्या हो सकती है।
  • भोजन में सोया पदार्थों के अधिक मात्रा में इस्तेमाल करने से।
  • यदि आप अधिक तनाव में रहते है तो इस स्थिति में भी आपको थायराइड हो सकता है।
  • यदि आपके माता-पिता या परिवार के अन्य सदस्यों को थायराइड की समस्या रह चुकी है तो यह रोग आपको भी हो सकता है।

थायराइड का घरेलू उपचार – Thyroid Diet In Hindi

  • यदि आपको थायराइड की समस्या होती है तो इस स्थिति में अधिक से अधिक दूध, दही और पनीर का सेवन करें क्योंकि इनमें कैल्सियम, मिनरल और विटामिन्स होते है जो कि थायराइड वाले रोगियों के लिए बहुत ही फायदेमंद होते है।
  • यदि आपको थकान जल्दी हो जाती है या फिर आपको आलसपन रहता है तो इस स्थिति में मुलेठी का सेवन करें। इसके सेवन करने के कई फायदे होते है। मुलेठी का सेवन करने से आपकी थकान दूर होती है और थायराइड के रोग में भी काफी मदद मिलती है।
  • फल और हरी-सब्जियों का सेवन करने से भी थायराइड मरीजों को इस बीमारी से लड़ने में काफी मदद मिलती है क्योंकि फल और सब्जियों में एंटीऑक्सीडेंट होते है जो थायराइड को बढ़ने से रोकते है।

थायराइड के मरीज को कभी नहीं करनी चाहिए ये 7 चीजें –

नीचे दी हुई निम्न चीजें थायराइड मरीज को कभी नहीं करनी चाहिए अन्यथा आपको काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है (Thyroid Me Kya Nahi Khana Chahiye) आइये जानते है इस बारे में…

  • थायराइड वाले मरीज को कैफीन युक्त पदार्थ (जैसे – चाय और कॉफी) का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि इनको पीने के बाद बेचैनी और नींद आने में परेशानी होने लगती है।
  • रेड मीट का उपयोग भी नहीं करना चाहिए क्योंकि इसको खाने से वजन बढ़ता है। अधिक वजन बढ़ने से आपको जलन की समस्या हो सकती है।
  • सोयाबीन और उससे बनी चीजों को भी कभी नहीं खाना चाहिए अन्यथा थायराइड का खतरा बढ़ जाता है।
  • अल्कोहल का सेवन करने से शरीर की एनर्जी प्रभावित होती है और नींद न आने की परेशानी भी होती है।
  • थायराइड होने पर वनस्पति घी का सेवन करने से अच्छा कोलेस्ट्रॉल खत्म हो जाता है और बुरा कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है। इसलिए इस स्थिति में वनस्पति घी का इस्तेमाल न करें।
  • थायराइड होने पर मरीज को डॉक्टर के पास जाना चाहिए। यदि आप किसी भी प्रकार की कोई दवा को ले रहे हो तो इस बारे में डॉक्टर को जरूर बताना चाहिए क्योंकि यदि आप किसी गलत दवा का इस्तेमाल बिना डॉक्टर की सलाह के करोगे तो अंत में थायराइड मरीज को नुकसान ही होगा।
  • चावल में ग्लूटेन होता है जो कि थायराइड वाले मरीजों के लिए बहुत ही हानिकारक होता है। इसलिए चावल और चावल से बनी चीजों का सेवन न करें।

FAQ in Hindi – आपके सवाल/हमारे जबाव

1. थायराइड को जड़ से खत्म करने के उपाय क्या है?

अधिक मात्रा में दूध और दही का सेवन करने से थायराइड को ठीक किया जा सकता है क्योंकि इनमें विटामिन, मिनरल्स और अन्य पोषक तत्व भी पाये जाते है। 

2. हाइपर थायराइड के लक्षण क्या होते है?

वजन कम होना, अधिक गर्मी लगना, अधिक भूख लगना और नींद न आना आदि लक्षण है। 

3. गले मे थायराइड के लक्षण क्या है? 

गले में गांठ या सूजन होना। 
निगलने में परेशानी होना। 
साँस लेने में परेशानी होना। 
खाँसी आना।  

4. थायराइड में चावल खाना चाहिए या नहीं?

चावल में ग्लूटेन होता है जो कि थायराइड वाले मरीजों के लिए हानिकारक होता है।  

5. नॉर्मल थायराइड कितना होना चाहिए?

0.4 से 4.0 मिली इंटरनेशनल यूनिट्स प्रति लीटर होना चाहिए। 

यह भी पढ़ें –

Conclusion – 

आज की इस पोस्ट में हमने आपको थायराइड से जुड़ी जानकरी दी है। इस पोस्ट को पूरा पढ़ने के बाद आपको पता चल चुका होगा कि थायराइड के लक्षण और घरेलू उपचार क्या है और थायराइड के मरीज को कभी नहीं करनी चाहिए ये 7 चीजें के बारे में…

आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी कमेंट बॉक्स में जरूर बतायें। यदि आप हमसे थायराइड रोग के बारे में कोई भी सवाल पूछना चाहते हो तो कमेंट बॉक्स में आसानी से पूछ सकते हो। धन्यवाद…

1 thought on “थायराइड क्या है और थायराइड के मरीज को कभी नहीं करनी चाहिए ये 7 चीजें”

  1. THANK YOU.
    I GOT DETAIL INFORMATION ABOUT tHYROID AND IT’S CURE.
    BUT NOW I RAISED ONE NEW SEPARATE QUESITION RELATED TGO MY DOG.
    MY DOG ROTTWEILLER (FEMALE) AGED 09YRS AND 06 MONTH BUT NOW SHE FEELS EACHING OVER SOME TIMES THE BOIT BITS AND MAKE WOUND. NOW I WANT TO KNOW WHAT TYPE OF LIQUIDE MEDICINE SHOULD I GIVE TO MY DOG TO PREVENT FROM BODT EACHING.

    Reply

Leave a Comment